Breaking News
Home / अपराध / जालसाजों ने ठगी का नया तरीका ईजाद किया : चौकन्ने रहे नही तो लुट जायेगे
img

जालसाजों ने ठगी का नया तरीका ईजाद किया : चौकन्ने रहे नही तो लुट जायेगे

फर्रूखाबाद। ठगी करने वाले गिरोह ने रूपये लूटने का नया तरीका ईजाद किया है। अभी तक जालसाज बैंक मैनेजर बनकर एटीएम का नम्बर पूछकर एवं धोखे से एटीएम हासिल कर खाते से हजारों रूपये उडा देते थे। इस गोरखधंधे का काफी प्रचार हो जाने के कारण लुटेरे काफी परेशान है। अब किसी भी समय आप के पास डाक से लिफाफा आ सकता है। जिसमे ऑनलाइन शॉपिंग कम्पनी प्राइवेट लिमिटेड नलनी राजन एवन्यू बसंतलाल शाह रोड, न्यू अलीपुर कोलकाता बेस्ट बंगाल की कंपनी का छपा हुआ हिन्दी व अंग्रेजी में प्रिंटिड लेटर हो सकता है। जिसमे ऑन लाइन शॉपिंग कम्पनी के प्राइज डिपाटमेंट मैनेजर की ओर से आपको अवगत कराया जायेगा कि हमारी कंपनी के 9वीं सालगिरह के अवसर पर हमने कुछ ग्राहकों को एक लकी ड्रा के माध्यम से चुना था।

जिसमे आप अभी एक भाग्यशाली बिजेता के रूप में चुने गये है। आपको यह जानकारी खुशी होगी कि आपको हमारी कंपनी की ओर से 2,20,000 रूपये और एक स्क्रेच कूपन दिया जा रहा है। आप अपने स्क्रेच कूपन का स्केच करके (जो उसमे प्राइस निकलता है) दिये गये हेल्प लाइन नम्बर पर काल या एसएमएस करके भुगतान ले सकते है। फर्जी कंपनी की ओर से यह प्रचार किया गया कि लकी ड्रा हमारा एक आन्तरिक कोशिश है। कंपनी को अपने ग्राहकों के द्वारा प्रचार-प्रसार कराने की। कोई भी ईनाम सम्बंधित जानकारी आप हमारे नीचे दिये गये हेल्प लाइन नम्बर पर कॉल करके भी प्राप्त कर सकते है।

एैसा नही कि कंपनी के सेल्स हेल्प लाइन नम्बर से क्योकि यह हेल्प लाइन सिर्फ उत्पाद खरीदने के लिये या कोई खरीदे गये उत्पाद को बदलने या वापस करने के लिये मदद करती है। पत्र में ईनाम भुगतान के नियम भी लिखे गये है। ईनाम का पूरा नकद सीधे आपके बैंक खाते में जायेगा। सारे सरकारी कर और प्रक्रिया शुल्क बिजेता को देना होगा। सारे शुल्क बिजेता से अग्रिम में एकत्रित किया जायेगा और किसी भी हालत में ये ईनाम की राशि के साथ एडजस्ट नही किया जायेगा। हेल्प लाइन नम्बर 7870626088। पत्र के साथ ही रंगीन स्क्रेच कूपन भी मिलेगा।

जब आप खुशी में कूपन को खुरचेगे तो उसमे एसआरएल 725029सी अल्टोकार लिखा देखकर उछल पडेगे। मालुम हो कि फर्जी कंपनियाओं के लोग ऑनलाइन खरीददारी करने वालों के पते व मोबाइल फोन नम्बर हासिल कर लेते है और अक्सर उसी को शिकार बनाते है ना समझ लोग अक्सर ठगी के शिकार हो जाते है। यदि पत्र को गहराई से पढे तो स्वतः ही पता चल जाता है कि यह फर्जीबाडा है। जब कंपनी 2.20 लाख का नकद ईनाम घोषित करती है तो कंपनी इसी राशि में से अन्य सभी शुल्क भी काट सकती है। यदि सही कंपनी होगी तो वह आपका बैंक नम्बर ही पूछेगी और नकद धन राशि उसी में भेजी जायेगी। जैसा कि सरकारी योजनाओं में होता है।

About Yogesh Singh

Check Also

img

सीबीआई ने रेलवे के दो अधिकारियों को रंगे हाथ रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

ठेकेदार से कैश लेते हुए सीबीआई ने पकड़ा था रंगे हाथ डीआरएम ऑफिस में तैनात …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *