Breaking News
Home / देश / पुलवामा एनकाउंटरः सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, दो कमांडर ढेर

पुलवामा एनकाउंटरः सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, दो कमांडर ढेर

नई दिल्ली।जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के खिलाफ सुरक्षाबलों ने सबसे बड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है। इस कार्रवाई में अब बड़ी सफलता भी हाथ लगी है। सुरक्षाबल ने पुलवामा हमले को दो कमांडरों को ढेर कर दिया है। बताया जा रहा है कि जिस इमारत में इन दोनों के छिपे होने की जानकारी थी सुरक्षा बल ने उसी इमारत को उड़ा दिया है। पिंगलिना स्थित इस इमारत को रात से ही घेर लिया गया था। पुलवामा हमले के बाद इसे सेना की बड़ी कामयाबी माना जा रहा है।

बताया जा रहा है कि इन दोनों कमांडरों में पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड गाजी राशिद और कामरान भी शामिल हो सकते हैं। हालांकि अब तक मारे गए कमांडरों के नाम की पुष्टि नहीं हो पाई है। आपको बता दें कि आतंकियों के खिलाफ शुरू हुए इस सबसे बड़े एक्शन में अब तक 23 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। खास बात यह है कि इस एक्शन में बड़े आतंकियों को ही नहीं खत्म किया जा रहा है, बल्कि कश्मीर में ग्राउंड जीरो पर मौजूद उनके साथियों को भी खत्म किया जा रहा है। इसी के तहत करीब दो दर्जन संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है, इनका संबंध पुलवामा आतंकी हमले से होने की आशंका है।

मिली जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबल के जवानों ने अब तक जितने संदिग्धों को हिरासत में लिया है वे सभी जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों के संपर्क में थे। यही नहीं ये भी माना जा रहा है कि इन सभी का संबंध किसी न किसी तरह से पुलवामा में हुए हमले से जुड़े हैं।

इस आतंकी हमले के बाद से ही पूरे देश में आक्रोश है, लोग सड़कों पर उतर कर पाकिस्तान के खिलाफ एक्शन की मांग कर रहे हैं. और सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि पाकिस्तान में बैठे आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया जाए। भारत की नेशनल जांच एजेंसी ने रविवार को इन सभी 23 संदिग्धों से पूछताछ की। सूत्रों की मानें, तो इन संदिग्धों के जरिए सुरक्षाबलों की कोशिश की है, कश्मीर में मौजूद जैश के सरगनाओं तक पहुंचा जाए।

About Yogesh Singh

Check Also

विवाद / अमेजन हिंदू देवताओं की फोटो लगे जूते और टॉयलेट सीट कवर बेच रहा, सोशल मीडिया पर लोगों ने गुस्सा जताया

ट्विटर पर #बायकॉटअमेजन का ट्रेंड चला, कई लोगों ने ऐप हटाया लोग एक-दूसरे से अमेजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *