Breaking News
Home / देश / मिशन गगनयान /वायुसेना और इसरो के बीच समझौता, 2022 तक तीन भारतीय अंतरिक्ष में जाएंगे

मिशन गगनयान /वायुसेना और इसरो के बीच समझौता, 2022 तक तीन भारतीय अंतरिक्ष में जाएंगे

  • इसरो-वायुसेना मिलकर अंतरिक्ष यात्रियों का चयन करेंगे और ट्रेनिंग देंगे
  • मोदी कैबिनेट ने मिशन गगनयान के लिए 10 हजार करोड़ रुपए की मंजूरी दी थी

बेंगलुरु. मानव मिशन के लिए वायुसेना ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के साथ समझौता किया है। वायुसेना की ओर से बुधवार शाम को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी गई। मिशन गगनयान के तहत इसरो 2021-22 तक तीन भारतीयों को अंतरिक्ष में भेजेगा। इसरो और वायुसेना इन तीनों अंतरिक्ष यात्रियों का चयन करेंगे और उन्हें ट्रेनिंग देंगे।

इसरो प्रमुख के सिवन की मौजूदगी में वायुसेना के एवीएम आरजीके कपूर और गगनयान मिशन के डायरेक्टर आर हट्टन ने मंगलवार को एमओयू पर हस्ताक्षर किए। सिवान ने कहा कि 2022 में गगनयान को रवाना करने के इसरो जियोसिंक्रोनस सेटेलाइट लांच व्हीकल मार्क-III (GSLV Mark-III) के जरिए दो मानवरहित यान भेजेगा। मिशन गगनयान के तहत तीन भारतीयों को अंतरिक्ष में सात दिन गुजारने होंगे। यह मिशन सफल रहा तो भारत ऐसा करने वाला दुनिया का चौथा देश बन जाएगा। इससे पहले रूस, अमेरिका और चीन अंतरिक्ष में मानवयान भेज चुके हैं।

Indian Air Force

@IAF_MCC

On 28 May 19 signed MoU with ISRO for crew selection & training for the prestigious Programme. AVM RGK Kapoor, ACAS Ops (Space), IAF handed over the MoU to Shri R Hutton, Project Director of Gaganyaan Programme.

273 people are talking about this

मोदी कैबिनेट ने 10 हजार करोड़ रु. की मंजूरी दी थी

मोदी सरकार ने 28 दिसंबर, 2018 को देश के पहले मानव स्पेस फ्लाइट प्रोग्राम (मिशन गगनयान) को मंजूरी दी थी। कैबिनेट बैठक में इसके लिए 10 हजार करोड़ रुपए की मंजूरी दी थी। मिशन को पूरा करने में 9023 करोड़ रुपए का खर्च आएगा।

About Yogesh Singh

Check Also

कश्मीर / खुफिया एजेंसियों का अलर्ट- श्रीनगर और अवंतिपोरा एयरबेस पर हो सकता है आतंकी हमला

इसी हफ्ते सुंजुवान सैन्य शिविर के बाहर भी एक संदिग्ध पकड़ा गया था कश्मीर में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *