Breaking News
Home / दुर्घटना / कर्नाटक / जंगी जहाज विक्रमादित्य पर हादसा, आग बुझाने की कोशिश में नौसेना अफसर शहीद

कर्नाटक / जंगी जहाज विक्रमादित्य पर हादसा, आग बुझाने की कोशिश में नौसेना अफसर शहीद

  • आईएनएस विक्रमादित्य पर 2016 में भी हादसा हो चुका, जहरीली गैस लीक होने से नौसेना के दो कर्मियों की मौत हो गई थी

बेंगलुरु. करवार के पास युद्धपोत आईएनएस विक्रमादित्य पर हादसा हो गया। आग बुझाने की कोशिश में नौसेना का एक जवान शहीद हो गया। हालांकि, आग पर काबू पा लिया गया। नौसेना ने जांच के आदेश दे दिए हैं। आईएनएस विक्रमादित्य पर इससे पहले 2016 में भी हादसा हो चुका है। तब जहरीली गैस लीक होने से नौसेना के दो कर्मियों की मौत हो गई थी।

रूस के युद्धपोत एडमिरल गोर्शकोव को ही नौसेना ने आईएनएस विक्रमादित्य नाम दिया गया है। विक्रमादित्य एक तरह से तैरता हुआ शहर है। यह लगातार 45 दिन समुद्र में रह सकता है। इसकी हवाई पट्टी 284 मीटर लंबी और अधिकतम 60 मीटर चौड़ी है। इसका आकार तीन फुटबॉल ग्राउंड के बराबर है। 15 हजार करोड़ रुपए की लागत से बने विक्रमादित्य पर 30 लड़ाकू विमान, टोही हेलिकॉप्टर तैनात किए जा सकते हैं। विक्रमादित्य पर कुल 22 डेक हैं। एक बार में 1600 से ज्यादा जवान इस पर तैनात किए जा सकते हैं। इस पर लगे जेनरेटर से 18 मेगावाट बिजली मिलती है। इसमें समुद्री पानी को साफ कर पीने लायक बनाने वाला ऑस्मोसिस प्लांट भी लगा है।

About Yogesh Singh

Check Also

विवाद / अमेजन हिंदू देवताओं की फोटो लगे जूते और टॉयलेट सीट कवर बेच रहा, सोशल मीडिया पर लोगों ने गुस्सा जताया

ट्विटर पर #बायकॉटअमेजन का ट्रेंड चला, कई लोगों ने ऐप हटाया लोग एक-दूसरे से अमेजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *